Header Ads

#StayHomeसावधानी एवं सतर्कता से ही नोवेल कोरोना वायरस का संक्रमण रोका जा सकता है, MP Education Gyan Deep आपसे आग्रह करता है, कृपया घर पर ही रहिए – स्वयं को सुरक्षित रखिए - #StayHome

MP Education - Ojas Youth Club in Schools : DPI ने जारी किए निर्देश, प्रदेश की शालाओं में होगा, ‘ओजस’ यूथ क्लब का गठन

Ojas Youth Club in Schools
ओजस यूथ क्लब 
MP Education - Ojas Club प्रदेश की शालाओं में होगा, ‘ओजस’ यूथ क्लब का गठन शैक्षिक गतिविधियाँ, कला प्रदर्शन, नाटक, संगीत, नृत्य, बौद्धिक गतिविधियां, खेल, कार्यशालाए, कैरियर काउंसलिंग, बागवानी, पिकनिक, साइकिल यात्रा, आस-पास के स्थानों की सैर और मनोरंजक गतिविधियां आदि गतिविधियों का होगा आयोजन.



समग्र शिक्षा अभियान (सेकेण्ट्री एजुकेशन) के अंतर्गत लोक शिक्षण संचालनालय मध्यप्रदेश द्वारा जारी आदेश क्रमांक / आर.एम.एस.ए. / यूथ क्लब / 2019 / 3310 भोपाल, दिनांक 21/10/2019 द्वारा ओजस यूथ क्लब के गठन के सम्बन्ध में निर्देश जारी किए गए.

लोक शिक्षण संचालनालय की इस अभिनव शुरुआत ‘ओजस’ यूथ क्लब के बारे में पूरी जानकारी के लिए इस पोस्ट को अंत तक पढ़िए.
ओजस क्लब के सम्बन्ध में DPI द्वारा जारी निर्देश इस प्रकार है -
शालाओं में "ओजस'" यूथ क्लब का गठन।
MP Education Department - हाई स्कूल एवं हायर सेकेण्डरी शालाओं में 14 से 18 वर्ष आयु के विद्यार्थी अध्ययन करते हैं। किशोरावस्था में शरीर, व्यक्तित्व, बुद्धि और सामाजिक दृष्टिकोण विकसित होते है। विद्यार्थी दिशा-हीनता के कारण गलत संगत में पड़ जाते है।

ऐसा देखा गया है कि अक्सर अर्थपूर्ण गतिविधियों और बड़ों की उचित निगरानी के अभाव में विद्यार्थियों के पास समय व्यतीत करने के लिये कुछ विशेष नहीं होता है ऐसे में वे अपने संगी-साथियों के साथ उद्देश्य-विहीन इधर-उधर घूमते-फिरते है और अक्सर जोखिम भरी गलत गतिविधियों में संलग्न हो जाते है। इनसे संवेदनशील किशोर और युवा मानस पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। 

विद्यार्थियों शाला समय के बाद उनकी रुचियों को विकसित करने और मार्गदर्शन प्रदान करने के उददेश्य से प्रत्येक शाला में यूथ क्लब का गठन करने का निर्णय लिया गया है। इस यूथ क्लब को "ओजस" के नाम से जाना जाएगा।



ओजस" यूथ क्लब गठन के उद्देश्य

विद्यार्थियों को ऐसे अवसर प्रदान करना जिससे वे खाली समय में स्वस्थ्य व सकारात्मक कार्यों में व्यस्त रह सके और अपनी भावात्मक बौद्धिक और शारीरिक पहचान की खोज बेहतर ढंग से कर सकें।

विद्यार्थियों को स्कूल के समय से पहले और बाद में सार्थक और उत्पादक गतिविधियों में संलग्न करना।

स्कूल के बाद विद्यार्थियों को मेंटरिंग करना, उन्हें गलत रास्तों पर चलने से रोका जा सके और उन्हें स्वस्थ मार्गदर्शन, सामाजिक समर्थन मिल सके।

विशिष्ट गतिविधियों का आयोजन ताकि विद्यार्थियों को उनकी रूचि के क्षेत्र में अपने कौशल को विकसित करने का अवसर मिल सके।

विद्यार्थियों के लिए एक्सट्रा करीकुलर गतिविधियों के विकल्प प्रस्तुत करना।



"ओजस" यूथ क्लब के आयोजन के लिए चरणबद्ध योजना

स्कूलों में युवा क्लब का संगठन एक व्यवस्थित ओर चरणबद्ध प्रक्रिया में निम्नानुसार किया जाएगा -
स्कूल के सभी शिक्षक और प्राचार्य मिलकर विद्यार्थियों से चर्चा करेंगे। प्राचार्य किसी एक शिक्षक को "ओजस" यूथ क्लब का प्रभारी बनाएंगे। प्रभारी शिक्षक शाला के आसपास स्थापित अच्छे संस्थानों / विशेषज्ञों से संपर्क कर शाला समय के बाद उन्हें विद्यार्थियों के लिए कक्षा संचालन इत्यादि के लिए आमंत्रित करेंगे। ये विशेषज्ञ विद्यार्थियों के लिए शाला समय के बाद कोर्स चला सकते हैं जिसमें विद्यार्थियों को संगीत, खेल, कुकिंग, एक्टिंग, स्थानीय लोक कला इत्यादि को सिखा सकते हैं।

"ओजस" यूथ क्लब का गठन कराना। शाला के शिक्षक, विद्यार्थी, एवं विशेषज्ञों को मिलाकर युवा क्लब का गठन किया जायेगा। यूथ क्लब में सामान्यतः कक्षा 9 एवं 11 के विद्यार्थियों को लिया जायेगा।

गठन के बाद सभी विद्यार्थियों के साथ शाला समय के बाद बैठक आयोजित की जाएगी। बैठक में की जाने वाली गतिविधियों की सूची तैयार की जाएगी इसमें शाला के आसपास स्थापित विशिष्ट केंद्र/विशेषज्ञों/संस्थानों से हुई चर्चा के आधार पर की जाने वाली गतिविधियों की कार्ययोजना पर चर्चा करेंगे।


Ojas Youth Club गतिविधियों का आयोजन

1. सामान्यतः गतिविधियाँ सप्ताह में 2 दिन बुधवार एवं शनिवार को आयोजित की जायेगी आवश्यकतानुसार विद्यार्थियों की सहमति से रविवार के दिवस भी आयोजित की जा सकेंगी।
2. गतिविधियों का आयोजन विद्यालय समय के बाद अथवा विद्यालय समय के पूर्व भी किया जा सकता है। इस पर निर्णय विद्यार्थियों की सहमति से लिया जा सकता है। सामान्यतः एक दिवस में 1.30 घंटे गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा। यदि विद्यार्थी और स्कूल चाहे तो समय बढ़ाया जा सकता है।

ओजस" यूथ क्लब की गतिविधियां -
"ओजस" यूथ क्लब के माध्यम से विद्यार्थियों के लिए आयोजित की जाने वाली गतिविधियों की सुझावात्मक सूची भी DPI द्वारा परिशिष्ट 1 में जारी की है, ये सुझावात्मक है इसके अतिरिक्त स्थानीय आवश्यकता के आधार पर अन्य गतिविधियां समाहित की जा सकती है।

Ojas Youth Club - यूथ क्लब द्वारा आयोजित की जाने वाली सुझावात्मक गतिविधियां
  • शैक्षिक गतिविधियाँ - विज्ञान, गणित कम्प्यूटर कोचिंग, स्पोकन इंग्लिश, अन्य भाषा सिखाना।
  • कला प्रदर्शन : कला, पारंपरिक लोक कला का प्रदर्शन
  • नाटक, संगीत व नृत्य   - नुक्कड़ नाटक (सड़क नाटक), लोक नाटक, लोक संगीत, सामुदायिक गायन, लोक गीत, स्कूल बैंड, लोक नृत्य।
  • बौद्धिक गतिविधियां - युवा विचारक और व्याख्याताओं के गतिविधियां, वाद-विवाद, अंधविश्वास को दूर करना, चयनित विषय पर व्याख्यान ।
  • खेल -: इनडोर खेल, आउटडोर खेल, योग
  • कार्यशालाए - आर्ट्स, क्रंपट्स, हस्तशिल्प, कुकरी, नेतृत्व विकास
  • पर्यावरण संरक्षण
  • कैरियर काउंसलिंग
  • मनोरंजक गतिविधियां
  • सामाजिक रूप से उपयोगी उत्पादक कार्य
  • पिकनिक, साइकिल यात्रा, आस-पास के स्थानों की सैर।
  • यूथ क्लबों द्वारा कैप लगाकर निम्नानुसार गतिविधियां भी की जा सकती है :
  • रक्त समूह परीक्षण, रक्तदान शिविर
  • नेत्र परीक्षण, नेत्रदान की प्रतिज्ञा नेत्र परीक्षण समझौते के प्रारूप उपयुक्त अधिकारियों को सौंपे जाएगे.
  • पुस्तकालय की पुस्तकों पर चर्चा, पुस्तक क्लब, इको क्लब
  • बागवानी
  • मानव अधिकार, उपभोक्ता अधिकार, बाल अधिकार, महिलाओं के अधिकार या सूचना का अधिकार पर जानकारी देने हेतु कैप,
  • भारतीय संविधान और भारतीय दंड संहिता पर जागरूकता,
  • जल, वायु, ध्वनि का प्रदूषण, स्वच्छता जागरूकता और स्वच्छता अभियान,
  • महामारी यौन स्वास्थ्य प्रजनन और एचआईवी/एड्स पर जागरूकता,
  • ई-गवर्नेंस,
  • बंजर भूमि को खेती योग्य बनाना,
  • कृषि और सम्बद्ध गतिविधियां - फसलों/सब्जी/फल/पशु का आयोजन,
  • पुस्तकालय की पुस्तकों पर चर्चा
  • बुक क्लब
  • गार्डन क्लब

बजट व्यवस्था
रूपये 25000/- की राशि "ओजस" यूथ क्लब की गतिविधियों के लिए प्रदान की जाएगी। "ओजस" यूथ क्लब द्वारा खेलकूद के लिए शाला द्वारा क्रय / शाला में उपलब्ध सामग्री का उपयोग भी किया जा सकेगा।

आवंटित बजट में से प्रभारी शिक्षक को अतिरिक्त समय प्रदान कर गतिविधियों संचालन करने के लिए रूपये 100/- प्रति दिवस के मान से राशि प्रदान की जाएगी। शेष राशि का उपयोग स्त्रोत सामग्री (Resource material) विशेषज्ञों को स्थानीय आवश्यकतानुसार मानदेय, गतिविधियों के आयोजन हेतु किया जा सकेगा। प्रभारी शिक्षक गतिविधियों का संचालन कर उसका डॉक्यूमेंट तैयार करेंगे तथा प्रतिमाह आयोजित गतिविधियों का विवरण मय फोटोग्राफ के ऑनलाइन rmsa के अंतर्गत विमर्श पोर्टल (Vimarsh Portal) पर अपलोड करेंगे।

1 comment:

Gyan Deep. Powered by Blogger.